April 23, 2024

राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवकों ने बुनकरों के घर जाकर सीखा हथकरघा से खादी कपड़ा बनाने की देसी तकनीक

1 min read

Video :- कोरबा NSS जिला संगठक वाय के तिवारी ने कहा- खादी आत्मसम्मान व आत्मनिर्भरता का प्रतीक इसका संरक्षण जरूरी।

कोरबा(thevalleygraph.com)। खादी जैसे स्थानीय उत्पादों के लिए लोगों में जागरूकता का विस्तार करने के लिए खादी और ग्रामोद्योग आयोग 2 से 31 अक्टूबर तक खादी महोत्सव का आयोजन कर रहा है। युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार ने सभी राष्ट्रीय सेवा योजना इकाइयों को खादी महोत्सव का उद्देश्य, हथकरघा व हस्तशिल्प उत्पादन तथा स्थानीय स्तर पर निर्मित किए जाने वाले विभिन्न पारंपरिक व कुटीर उत्पादों के उद्योगों के उत्पादों को बढ़ावा देने और उनका आधिकाधिक उपयोग करते हुए देश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए व्यापक अभियान चलाने का निर्देश दिया है। इसी कड़ी में जिले की शा उ मा वि सुखरीकला की रासेयो इकाई के द्वारा खादी महोत्सव का आयोजन किया गया जिसमें जिला संगठक वाय के तिवारी ने सभी स्वयंसेवकों छात्र-छात्राओं तथा शिक्षकों को महात्मा गांधी की प्रेरणा से देश की आजादी की लड़ाई में खादी का योगदान, उसके संवर्धन तथा उपयोग का महत्व समझाते हुए खादी को आत्मनिर्भरता और आत्मसम्मान प्राप्त करने का सशक्त माध्यम बताया। उन्होंने खादी के कपड़ों का व्यापक प्रचार प्रसार करने तथा स्थानीय उत्पादों का प्रयोग करते हुए उसके लाभों से समाज को परिचित कराने के लिए सभी छात्र – छात्राओं तथा शिक्षकों को शपथ दिलाई।


युवाओं में खादी के उपयोग हेतु आकर्षण जरूरी
देश के लिए खादी, फैशन के लिए खादी तथा समृद्धि का आधार खादी में उद्यमिता व स्वरोजगार के भाव छुपे हैं। जिला संगठक वाय के तिवारी ने स्वयंसेवकों को साथ लेकर सुखरीकला के बुनकरों के घर जाकर कपड़ा बुनने, कच्चा माल प्राप्त करने तथा विपणन की प्रक्रिया को समझा। ग्राम के युवा बुनकर राकेश कुमार मरावी ने बताया की वे सहकारी खादी विपणन समिति सिवनी से धागे प्राप्त कर अपने घर में हैंडलूम से खादी का कपड़ा बुनते हैं इस कार्य में उनकी धर्मपत्नी आरती मरावी के साथ बड़ी संख्या में महिलाएं भी कार्य करती हैं जो महिलाओं के लिए सशक्तिकरण तथा आत्मनिर्भरता को मजबूत आधार देता है। ग्राम की महिलाएं खादी कपड़ा बुनने में अत्यधिक रुचि ले रही हैं।

सुकरीकला विद्यालय परिसर में पौधों का रोपण
खादी महोत्सव आयोजन के दौरान अतिथियों ने सुकरीकला विद्यालय परिसर में पौधों का रोपण किया गया तथा अमृत कलश हाथ में लेकर सभी स्वयंसेवकों के साथ पंच प्रण की शपथ ली। सभी स्वयंसेवकों को दौड़, पीटी, योगासन, साइकिलिंग, तैराकी आदि के नियमित अभ्यास से फिट इंडिया के लाभ को घर – घर तक पहुंचा कर और देश के विकास में सभी की सक्रिय भागीदारी को सुनिश्चित करने के लिए अभियान चलाने हेतु स्वयंसेवकों को प्रेरित किया। कार्यक्रम में विद्यालय के प्राचार्य बीएल चौधरी कार्यक्रम अधिकारी डी सी बंजारे उमरेली के कार्यक्रम अधिकारी बी पी बघेल, व्याख्याता श्रीमती अनित साहू, मौसमी अवस्थी, ज्योती सोनी, कृष्णा सिंह कंवर, गिरिजा शंकर श्रीवास, ए एल डहरिया, डी एल कंवर, एल एन सोनकर, कमला नेहरू महाविद्यालय के रासेयो वरिष्ठ स्वयंसेवक मनीष चंद्रा, शनिराव जगताप, देवांश कुमार के अलावा विद्यालय के व्याख्याता, कर्मचारी तथा बड़ी संख्या में रासेयो स्वयंसेवक व छात्र-छात्राएं उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन विद्यालय के वरिष्ठ व्याख्याता रमेश कुमार राठौर तथा आभार ज्ञापन प्राचार्य बी एल चौधरी के द्वारा किया गया।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © https://contact.digidealer.in All rights reserved. | Newsphere by AF themes.