May 19, 2024

देवांगन कल्याण समाज के संरक्षक झकेन्द्र देवांगन ने कहा है कि लक्ष्मीनारायण खुद को स्वयंभू अध्यक्ष घोषित कर गलत बयान दे रहे हैं

1 min read

देवांगन समाज भडक़ा, कहा-समाज को राजनीति का अखाड़ा न बनाएं लक्ष्मीनारायण
कोरबा। देवांगन समाज का स्वयं को अध्यक्ष बताने वाले लक्ष्मीनारायण देवांगन के द्वारा भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार लखनलाल देवांगन का जिक्र करते हुए उनके महापौर और विधायक कार्यकाल में समाज के लिए जमीन और भवन की मांग संबंधी दिए गए बयान पर देवांगन समाज के पदाधिकारियों ने निन्दा व्यक्त करते हुए इसे अनुचित बताया है। तथाकथित स्वयंभू अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण देवांगन के ऐसे बयान से देवांगन समाज के लोगों में आक्रोश व्याप्त है और सवाल कर रहे हैं।
जिला देवांगन कल्याण समाज के संरक्षक झकेन्द्र देवांगन ने कहा है कि लक्ष्मीनारायण देवांगन खुद को स्वयंभू अध्यक्ष घोषित कर गलत-सलत बयान दे रहे हैं, उसकी निन्दा करता हूं। वर्ष-2008 में वे अध्यक्ष थे लेकिन इसके बाद अध्यक्ष नहीं हैं। वे खुद को अध्यक्ष घोषित कर चाहते हैं कि किसी विशिष्ट राजनीतिक पार्टी पर प्रभुत्व जमा सकें तो यह गलत बात है। वे गलत बयान दे रहे हैं कि भवन पूर्णता की ओर है तो उस स्थल को दिखाएं जहां समाज का भवन बन रहा है। भवन के नाम से पैसा कहां जा रहा है या नगदी लाकर बांट रहे हैं, यह उनको बताना चाहिए। झकेन्द्र देवांगन ने कहा कि किसी विशेष पार्टी से उनका जुडऩा व्यक्तिगत बात है लेकिन उसके लाभ के लिए किसी समाज के बारे में मिथ्या प्रचार करना उचित नहीं।
देवांगन कल्याण समाज के कोषाध्यक्ष पंकज देवांगन का कहना है कि लक्ष्मी देवांगन 2008 में समाज के अध्यक्ष थे। 3 साल तक अध्क्षीय कार्यकाल रहता है, 2008 से 2023 तक वे कैसे अध्यक्ष हैं, वे इस बारे में भ्रामक बातें कर रहे हैं। सामाजिक भवन का भूमिपूजन, भवन का निर्माण, 20 लाख रुपए, 25 लाख रुपए मिलने की मिथ्या बातें वे कर रहे हैं। इस तरह की अनर्गल और गलत बयानबाजी से देवांगन समाज में नाराजगी है। इनके अलावा समाज के महासचिव सनत देवांगन, 13 गांव मेहर संघ अध्यक्ष गिरधारी देवांगन, जिला उपाध्यक्ष भुनेश्वर देवांगन, दामोदर देवांगन, दीक्षित देवांगन, भरत देवांगन, शुभम देवांगन, आनंद देवांगन जिला सचिव ने भी कहा है कि लक्ष्मीनारायण देवांगन अपने ऊल-जुलूल बयानबाजी से समाज में राजनीति न लायें और समाज को समाज ही रहने दें। अपनी व्यक्तिगत राजनीतिक निष्ठा को जरूर निभाएं लेकिन समाज को तोडऩे और इस तरह से बदनाम करने की कोशिश न करें।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © https://contact.digidealer.in All rights reserved. | Newsphere by AF themes.