May 24, 2024

पूर्णाहूति अर्पित कर देवपहरी के पवित्र झरने में बच्चों के हाथों विदा हुए भगवान गजानन

1 min read

देखिए वीडियो…,सुदूर वनांचल स्थित गोमुखी सेवा धाम में विराजे गणपति का हवन-पूजन के साथ विसर्जन

कोरबा(thevalleygraph.com)। सुदूर वनांचल ग्राम देवपहरी स्थित गोमुखी सेवा धाम में बच्चों और शिक्षकों ने चतुर्थी के विशेष अवसर पर श्रद्धापूर्वक भगवान श्री गणेश की प्रतिमा स्थापित की थी। परिसर में विधिवत पूजा-पाठ और आराधना के बाद गुरुवार को हवन-पूजन कर आयोजन में पूर्णाहूति अर्पित की गई। इस दौरान वैदिक मंत्रोच्चार के साथ हुए अनुष्ठान में बच्चों, शिक्षकों और आस-पास के ग्रामीण श्रद्धालुओं ने हवन-पूजन में भाग लिया। विधि-विधान से आसन हिलाते हुए कार्यक्रम पूर्ण किया। इसके बाद गाजे-बाजे के साथ झूमते हुए भगवान गणेश की प्रतिमा एक रैली के रूप में देवपहरी के पवित्र गोविंदझुंझ जलप्रपात पहुंची। इस बीच गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी की प्रार्थना के जयघोष के साथ बच्चे चल रहे थे। झरने पर पहुंचकर विसर्जन की रीति पूरी करते हुए गणपति को विदाई दी गई।

इस क्षेत्र में ज्यादातर गांवों में तीन दिवसीय गणेश चतुर्थी का उत्सव मनाया गया। इसके बाद गुरुवार को धूम धाम गणपति विसर्जन किया गया। इनमें ग्राम डीडासराई में पतंग सिंह कंवर, राजाराम, इतवारा बाई, राजेंद्र कुमार, दिलेश्वरी, भूकंप, द्रुपति द्वारा तीन दिन तक श्रद्धा भक्ति से सेवा की। इसके बाद विधि-विधान से विसर्जन कर गणपति की विदाई की गई। इसी तरह डीडा पाठ, गौ मुखी सेवा धाम देवपहरी, कनसरा, जाताडांड, बंजारी डांड, साखो, बड़गांव, लामपहाड़, केऊबहर, गढ़-उपरोड़ा, देवदुवारी में भी उत्सव मनाया जा रहा।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © https://contact.digidealer.in All rights reserved. | Newsphere by AF themes.